कम्प्यूटर की विशिष्टताएँ[ Fundametals of Computer]

 Fundamentals of computer÷  आज अगर सूचनाओं से भरे हुए इस समाज में प्रभावशाली ढंग से कार्य करना चाहते हैं।
तो सभी क्षेत्रों के लोगो को कम्प्यूटर के बारे में जानकारी आवश्यक होनी चाहिए।
इस पाठ का उद्देश्य आपको आज के कम्प्युटर सिस्टम से अवगत कराना है।
हमारा उद्देश्य यहीं रहेगा कि आप कम्प्युटर हार्डवयर की मूलसंरचना, उसकी क्षमताओं और खामियों को आसानी से समझ सके।

 डिजिटल कम्प्यूटर का कार्य (digital computer)

  digital computer÷

  किसी कम्प्यूटर की आऊपुट (output) को सूचना (Information) कहा जाता है। इन्फोरमेशन (Information) डाटा की Processed form है।
                उदाहरण के लिए किसी छात्र के द्वारा किसी विशेष परीक्षा में अलग- 2 विषयों में प्राप्त किए गए अंक डाटा का कार्य करते हैं।
इस डाटा को प्रोसेस (Process) करके परिणाम प्राप्त किया जा सकता है।
             
परिणाम एक इन्फोरमेशन Information) है। जिसका प्रयोग अध्यापक यह घोषणा करने के लिये करता है कि छात्र पास है, या फेल है।मूल रूप से डिजिटल कम्प्यूटर पांच कार्य करता है।

(1) इनपुटीग (Inputting)

डाटा को Input के रूप में स्वीकार करना कंप्यूटर का कार्य है।

(II) संचय करना (Storing):

यह डाटा तथा इन्फोरमेशन को मेमोरी (Memory) में स्टोर करता है। तथा जब उसकी आवश्यकता पड़ती है। उसे रीकाल (recall) करता है।

(iii) प्रोसेसिंग (Processing)

दिए गए निर्देशों के अनुसार डाटा को प्रोसेस (Process) करके लाभदायक Information में बदलता है।

(iv) आऊटपुटिंग (Outputting)

यह तैयार की गई इन्फोरमेशन को आऊटपुट के रूप में दर्शाता है।

(v) नियन्त्रित करना (Controlling):

यह ऊपर बताए गए सभी कार्यों को नियन्त्रित भी करता है। सरल शब्दों में हम कम्प्यूटर को इनपुट की सप्लाई करते है।
कम्प्यूटर इसको प्रोसेस करता है और इससे आऊटपुट को तैयार करता है। जैसा के आकृति में दर्शाया गया है।
Fundamentals of computer
टिप्पणी:
इन्फोरमेशन (Information) बटा की प्रोसेसह फोर्म है इसलिए घटा और इन्फोरमेश एक ही चीज नहीं होती।

कम्प्यूटर की परिभाषा [simple definition of computer]

Simple definition of a computer÷कम्प्यूटर एक ऐसा इलैक्ट्रानिक डाटा प्रोसेसिंग उपकरण है जोकि अपने आप
(i) सूचना और निर्देश को ग्रहण कर संग्रहित (store) करता है।
(ii) उन्हें विश्लेषित (Process) करता है।
(iii) विश्लेषित (Process) परिणामों को रिपोर्ट की तरह दिखाता है।

कम्प्यूटर की विशेषताएँ (Characteristics and Advantages of Computer)

कम्प्यूटर की मुख्य विशेषताएँ निम्नलिखित है।Fundamentals of computer

(I) तेज गति (High Speed)

कम्प्यूटर एक तेज गति की मशीन है जो कि गणितीय गणना अविश्वसनीय गति से कर सकता है।
कम्प्यूटर की गति को माइक्रो सेकेंड (Microsecond) (एक क्षण का एक अरबंवा हिस्सा) नैनॉसेकेंड (Nanosecond) (हजार अरबाँ) और पीकोसेकेंड (Picosecond) (अरब अरबंवा हिस्से) में मापा जाता है।
एक शक्तिशाली कम्प्यूटर दो 18 अंको वाली संख्याओं को जोड़ने में 300 से 400 नैनोसेकंड लेता है। (यानी प्रति सेकेंड में 3 अरब गणनाएँ करता है)

(2) शुद्धता (accuracy) :

कम्प्यूटर विश्लेषण (Processing) में कभी गलती नहीं करते। आज कल कम्प्यूटर दशमलव के बाद आठ या इससे ज्यादा महत्वपूर्ण (Significant) अंको तक गणना करके आवश्यक सही परिणाम देने में सक्षम है।

(8) संग्रहण (Storage) :

कम्प्यूटर की आंतरिक मेमोरी इतनी ज्यादा नहीं है कि बार-2 प्रयोग के लिए डाटा या निर्देशों को संग्रहित कर सके।
इस कमी को दूर करने के लिए द्वितीयक (Secondary) संग्रह उपकरणो जैसे फ्लापी डिस्क, हार्ड डिस्क, सीडी-रोम आदि का प्रयोग किया गया।
इन यंत्रो में डाटा और निर्देशों का संग्रह कर के हम सूचना को बार-2 जब चाहे तब देख सकते है।

(4) विश्वसनीयता (Reliability)

कम्प्यूटर एक विश्वसनीय मशीन है। आधुनिक इलेक्ट्रानिक खंड या भाग की उम्र काफी लंबी और असफलता की दर बहुत कम है।
एक माइक्रोप्रोसेसर चिप की उम्र प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद 40 साल तक ही है और इसके असफल होने से पहले इनकी तकनीक लुप्तप्राय (Obsolete) हो जाती है।

(5) विविधता ( Versatility):

इस मशीन का प्रयोग विभिन्न क्षेत्रों की समस्याओं का हल निकालने
में किया जा सकता है।
एक समय पर ये कठिन वैज्ञानिक समस्या का हल निकाल सकता है ,और दूसरे क्षण में इस पर शतरंज खेली जा सकती है या फिर हो सकता है कि ये पैरोल (Payroll) की समस्या पर कार्य कर रहा हो।

(5) स्वयंचालित (Automation)

यदि एक बार प्रोगाम और निर्देशो को कम्प्यूटर की मेमोरी में इनपुट कर दिया जाए तो ये निर्देश अकेले की प्रोगाम को अपने आप चला कर नियंत्रित कर सकते है।

(6)आपरेटर (Operator)

जब कम्प्यूटर प्रोगाम या निर्देशों का पालन कर रहा हो तब हस्तक्षेप करने की जरूरत नहीं होती क्योंकि निर्देश (Instruction) स्वयं ही समस्या हल करने में सक्षम होते है।

शिक्षा और प्रशिक्षण (Education and Training)

कम्प्यूटर ने शिक्षा प्रणाली में भी बहुत कुछ प्रदान किया है। शिक्षा के क्षेत्र में कम्प्यूटर के प्रयोगों को CBE (कम्प्यूटर आधारित शिक्षा के नाम से जाना जाता है)। CBE में तीन चीजे आती है। नियन्त्रण, प्रचालन तथा मूल्यांकन कम्प्यूटर का प्रयोग निम्न के लिए किया जाता है।
 (I) CMI (कम्प्यूटर मैनेजड इन्सटक्सन) सी. एम. आइ. पैकेज का प्रयोग छात्रो द्वारा ग्रहण की गई निर्देशो को नियन्त्रित करने के लिये किया जाता है।
(III) CAI (कम्प्यूटर एसिस्टिड इन्सट्रक्स): इसका प्रयोग छात्रो को Instruction देने के लिए किया जाता है। (III) शिक्षा में समस्या समाधान सोफ्टवेयर का प्रयोग: ऐसे साफ्टवेयर के उदाहरण है साख्यिकीय पैकेजस, इलैक्ट्रानिक स्प्रेडशीट (Spreadsheet), अकाउंटिंग पैकेज आदि। ऐसे पैकेज में प्रयोगकर्ता डाटा डालता है और सीधा परिणाम प्राप्त करता है।
(IV) सिमुलेशन (Simulation) : सिमुलेशन छात्रो को वास्तविक संसार के अनुभवों की योग्यता सीखने की सहायता करता है। उड़ान भरना और उसका संचालन करने से सम्बन्धित सिमुलेशन जो छात्रो को हवाई जहाज उडाना और चलाने की योग्यता सीखने में सहायता करता है।
(v) कम्प्युटर आधारित जांच आजकल छात्रों के प्रदर्शन और विश्लेषण को जाँचने के लिए भी सोफ्टवेयर तैयार किये गये है।

मार्केटिंग में कम्प्यूटर (Computer in Marketing)

मार्केटिंग में कम्प्यूटर के प्रयोग के क्षेत्र निम्नलिखित है।
(i) हॉम शापिंग में (At-home shopping) : एट हाम शापिंग कम्प्यूटराइजड सूचियों के प्रयोग के द्वारा ही सम्भव हो पाई है। ये सूचियां उत्पाद सम्बन्धी सूचना देती है तथा व्यापारी द्वारा भरी जाने वाली आर्डर की सीधी एन्टरी प्रदान करती है।
(II) विज्ञापन (Advertising) कम्प्यूटरों की सहायता से विज्ञापन बनाने वाले व्यवसायिक आर्ट एवं ग्राफिक्स तैयार करते है, कापी को रिवाइज करते है और वे ज्यादा से ज्यादा
सामान बेचने के उद्देश्य से विभिन्न प्रकार के विज्ञापन छापते है।
(III) टेली मार्किटिंग (Telemarketing): टेली मार्किटिंग का अर्थ है कि उन मार्किटों तक पहुचाना जठा जाना पहले सम्भव नहीं था और यह बड़ा सफल भी सिद्ध हुआ है। टेली मार्किटिंग से सम्बद्ध लोग शुरू में अपने सम्पर्क बनाने के लिए टेलीफोन या कम्प्यूटर का प्रयोग करते हैं।
       जब व्यक्ति फोन का जवाब देता है तो पहले से रिकार्ड किए सन्देश प्ले होते है। व्यक्ति से एक तैयार किए गए प्रश्न पत्र के सवालों का जवाब देने के लिए कहा जा सकता है या फिर किसी विशेष सेवा पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा जाता है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र (Medicine and Health Care)

कम्प्यूटर चिकित्सा के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण भाग बन गया है। कुछ प्रमुख क्षेत्र निम्नलिखित है।
(i) डायग्नोस्टिक सिस्टम (Diagnostic System)
इस क्षेत्र में कम्प्यूटर का प्रयोग डाटा इकटठा करने तथा बिमारी के कारणों को जानने के लिए किया जाता है।
(II) लैब डायग्नोस्टिक सिस्टम (Lab-diagnostic System)
बड़े-2 लैब Test कम्प्यूटर की सहायता से ही किया जाता है।
 (III) लैब आटोमेशन सिस्टम (Lab Automation System) इसके द्वारा मेडिकल जांच की जाती है।
(iv) रोगी मोनिटरिंग सिस्टम (Patient Monitoring System) : इस का प्रयोग रोगी के असामान्य होने के प्रत्येक चिन्हों को पता लगाने के लिए किया जाता है।
(v) फार्मेसी सूचना प्रक्रिया (Pharmacy Information System) : यह इम्स के लेबल, समाप्ति तिथि, हानिकारक प्रभाव इत्यादि का पता लगाने के लिए किया जाता है।
आजकल कम्प्यूटरों का प्रयोग सर्जरी करने के लिए भी किया जाता है।
(vi) डिजाइन व मैनफैक्चरिंग में (Design and Manufacturing)
 इन्जिनियरिंग उद्धेश्यों के लिए भी कम्प्यूटर का प्रयोग काफी मात्रा में किया जाता है। एक प्रमुख क्षेत्र CAD (कम्प्यूटर एडिट डिजाइन) है। CAD का प्रयोग इमेज बनाने तथा, संशोधित करने के लिए करते हैं। मुख्य क्षेत्र निम्नलिखित है।
(1) स्ट्रक्चरल इन्जिनियरिंग (Structural engineering)
जहाज, इमारत, बजट, हवाई जहाज इत्यादि के निर्माण के लिए डिजाइन कम्प्यूटर की सहायता से तैयार करते है।
(ii) आर्किटेक्चरल इन्जिनियरिंग (Architectural Engineering)
टाऊन प्लानिंग के लिए, भवनों का डिजाइन तैयार करने के लिए, किसी स्थान पर बिलडेंग का प्रबन्ध करने के लिए, द्विआयामी तय त्रिआयामी ड्राइंग तैयार करने में कम्प्यूटर का प्रयोग होता है।
(iii) इण्डस्ट्रियल इन्जिनियरिंग मे
यह उपकरणों के एकीकृत सिस्टमों को डिजाइन करने, कार्यान्वित करने तथा सुधार करने के काम आता है।
(iv) IC डिजाइन
CAD सिस्टम की सहायता से IC (इन्टियॉटिड सर्किट) को केवल तैयार व चैक ही नही किया जाता बल्कि LSI (लार्ज स्केल इन्टियाटिड) व VLSI (वैरी लार्ज स्केल) चिप भी डिजाइन व टैस्ट की जा सकती है।
B. मिलिट्री में कम्प्यूटर का प्रयोग (Computer in Military) देश की रक्षा के क्षेत्र में कम्प्यूटर का विस्तृत प्रयोग किया जाता है।
आधुनिक टैंक, मिसाईल, हथियार इत्यादि कम्प्यूटराईजड कन्ट्रोल सिस्टम का प्रयोग करते हैं। कुछ सैन्य क्षेत्र जिनमें कम्प्यूटर का प्रयोग सफलतापूर्वक किया जाता है। निम्न है।
(i) मिसाइल नियन्त्रण में
(i) सैन्य संचार प्रणाली में
(i) सैन्य आपरेशन और नियोजन में
(iv) स्मार्ट हथियारों में

संचार के साधनों में (Computer in Communication)

कम्यूनिकेशन का अर्थ है कि किसी सन्देश, विचार, तस्वीर, या भाषण को उस आदमी के द्वारा ग्रहण करना व साफ-2 समझना जिसके लिए यह तैयार किया गया है। इस वर्ग में मुख्य क्षेत्र निम्नलिखित है।
ईमेल (E-mail)
विडियो कान्फ्रेंसिंग (Video-conferencing)
चैटिंग (Chatting)
टेलीनेट (Telnet)
यूजनेट (Usenet).
एफ टी. पी. इत्यादि (FTP)

सरकारी कार्यों के लिए कम्प्यूटर का प्रयोग (Computers for use of Government Applications)

कम्प्यूटर ने अपनी शक्ति एवं जल्द निर्णय लेने की सामर्थ्य की वजह से सरकारी संगठनों को जीत लिया है।
आज देश के सभी जिले NIC (नैशनल इन्फ़ोरमैटिक सैन्टर) के माध्यम से एक केन्द्रीय कम्प्यूटर नेटवर्किंग से जुड़े हुए है।
NIC जो कि स्वर्गीय प्रधानमन्त्री राजीव गान्धी द्वारा शुरू की गई थी ने देश के विभिन्न भांगो में नवीनतम जानकारी देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस क्षेत्र के महत्वपूर्ण भाग निम्न है।
ड्राइविंग लाइसेन्स प्रणाली का कम्प्यूटराजेशन करना
मतदाता सूचि का कम्प्यूटराइजेशन करना।
मौसम सम्बन्धी भविष्यवाणी करना
पुरुष/नारी अनुपात ज्ञात करना
बजट तैयार करना
आयकर विभाग में
विक्रीकर विभाग में
PAN का कम्प्यूटरीकरण
न्याय और कानून के क्षेत्र में कम्प्यूटर का प्रयोग
खेलों मे

कम्प्यूटर के घटक [Components of a Computer]

कम्प्यूटर के तीन प्रमुख हिस्से है।
1.इनपुट यूनिट (Input Unit)
सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit)
2.मेमोरी यूनिट (Memory Unit)
          अर्थमेटिक एवं लॉजिक यूनिट {Arithmetic
           Logical Unit (ALU)}
            कन्ट्रोल यूनिट (Control Unit)
3.आउटपुट यूनिट (Output Unit)
      सभी इकाईयो को सामान्यतः इसी क्रम में जोड़ा जाता है जैसे कि नीचे चित्र में दर्शाया गया है।
Fundamentals of computer
 इनपुट यूनिट [Input Unit]
इस यूनिट में वह उपकरण होते है जिनके माध्यम से कम्प्यूटर को सूचनाएँ एवं निर्देश इनपुट (Input) किये जाते है। ये इकाई कम्प्यूटर और यूजर (User) को जोड़ने का काम करती है।
         इनपुट (Input) उपकरण मानवो की भाषा को कम्प्यूटर द्वारा समझी जाने वाली मशीनी भाषा में बदल देते है। इनपुट उपकरणों के उदाहरण : (i) की-बोर्ड (Keyboard)
(ii) मॉनिटर (Monitor)
(iii) माऊस (Mouse)
(iv) लाईट पेन (Light Pen)
(V) स्कैनर (Scanner)
(vi) जॉयस्टिक (joy stick)
(vii) वाईस रिकगनाइजर (Voice recongniser)
(vill) कार्ड वाचक (Card reader)
(ix) डिजीटाईजर (Digitizer)
(x) फ्लापी ड्राईव (Floppy Drive)
(xi) डिस्क ड्राइव (Disk Drive)
(xii) टेप ड्राइव (Tape Drive)
(xiii) कार्टरिज टेप ड्राइव (Cartridge tape drive)
(xiv) आंप्टीकल कैरेक्टर रीडर (Optical character Reader)
(xv)ऑप्टिकल मार्क रीडर (Optical Mark Reader)
टिप्पणी:
संक्षेप में इनपुट यूनिट के कार्य इस प्रकार है :
1.यह यूजर (User) से डाटा (Data) स्वीकार करती है।
2.यह डाटा व निर्देशों को कम्प्यूटर की भाषा में बदलती है।3.यह यूनिट यूजर को कम्प्यूटर से जोड़ती है।

 आउटपुट यूनिट [Output Unit]

इस इकाई में वह उपकरण होते है जिनके माध्यम से हम कम्प्यूटर से परिणाम जान पाते है। आउटपुट यूनिट कम्प्यूटर और उपयोगकर्ता (यूजर) के बीच में माध्यम का कार्य करती है।
आउटपुट उपकरण कम्प्यूटर की मशीनी भाषा के परिणामो को यूजर (User) की भाषा में बदलते है।
आउटपुट उपकरणों के उदाहरण
(1) मानीटर ( Monitor ) (i) लाईन प्रिंटर (Line Printer) (i) डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर (Dot Matrix printer) (iv) लेजर प्रिंटर (Laser Printer) (v) ग्राफ प्लॉटर (Graph plotter) (vi) फ्लापी ड्राइव (Floppy Drive) (vi) टेप ड्राइव (Tape Drive) (vii) डिस्क ड्राइव (Disk Drive) आदि
टिप्पणी:
संक्षेप में, आउटपुट यूनिट के कार्य इस प्रकार है। यह यूनिट कम्प्यूटर द्वारा प्रोसेसर परिणामों को दिखाती है।
 1. यह यूनिट परिणामों को यूजर (User) की भाषा में बदलती है।
2.यह यूनिट कम्प्यूटर को यूजर (User) से जोड़ती है।

सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट [Central Processing Unit (CPU)]

CPU को कम्प्यूटर का दिमाग जाना जाता है। CPU डेटा, परिणामों और हिदायतो (प्रोग्राम) को स्टोर करता है। यह कम्प्यूटर के सभी भागों को नियन्त्रित करता है। CPU के तीन हिस्से (Component) है।

अर्थमैटिक एवं लॉजिक यूनिट (Arithmetic & Logic Unit (ALU)]

इस इकाई को दो भागो में बायें जा सकता है। (i) अर्थमैटिक यूनिट (i) लॉजिक यूनिट
(a) अर्थमेटिक यूनिट (Arithmetic Unit) इस यूनिट का मुख्य कार्य गणितीय कार्य जैसे जोड़, घटा, गुणा, भाग करना है। सभी मुश्किल गणनाएँ भी ऊपर लिखे गए कार्यों के बार 2 इस्तेमाल से पूरी की जाती है।
(b) लॉजिक यूनिट (Logical Unit): इस यूनिट का मुख्य कार्य, तार्किक कार्य को पूरा करना है। जैसे कि दो संख्याओं की तुलना करना, डाटा का selection कार्य करना, डाटा को इकटठा करना, डाटा को मिलाना आदि कार्य करता है
टिप्पणी ÷ संक्षेप  में, ALU के कार्य इस प्रकार है।
(a) यह अंक गणित की प्रक्रियाएं को करता है जैसे जोड़ना, गुणा करना और भाग करना।
(b) फिर ये जरूरी डाटा को मुख्य मेमोरी (Main Memory) से लेती है।
(c) ये सीपीयू (CPU) को जरूरी क्रियाएँ करने के लिए आवश्यक निर्देश देती है। और यह निश्चित करती है क्या जरूरी क्रियाएँ (Operations) पूरे हो गए है या नहीं
(d) ये परिणामो को मेमोरी के आऊटपुट क्षेत्र मे रखती है।
(e) ये असले निर्देश को मेमोरी से पढ़ती है और इसी क्रियाओं के क्रम जोकि ऊपर बताए गए है, को दोहराती है।
टिप्पणी:
संक्षेप में, Control Unit के कार्य इस प्रकार है।
• यह कम्प्यूटर की बाकी ईकाईयों के बीच में डाटा और निर्देशों के आदान प्रदान के नियंत्रण के लिए जिम्मेवार है।
• ये कम्प्यूटर की सभी इकाईयों में संतुलन और नियंत्रण बनाए रखती है।
• ये मेमोरी से निर्देश को लेती है। उनका विशलेषण करने कम्प्यूटर को वह कार्य करने के लिए निर्देश देती है।
• यह इनपूटर आउटपुट को डाटा मेमोरी में भेजने का निर्देश देती है।
• ये डाटा को संग्रह या संसाधित (Store or process) नहीं करती।

मेमोरी या स्टोरेज यूनिट [Memory or Storage Unit]

यह यूनिट निर्देशो (Information), डाटा और मध्यवर्ती परिणामों को संग्रहित करती है। यह इकाई कम्प्यूटर की बाकी इकाईयों को जरूरत के वक्त सूचना प्रदान करती है।
          इसे आंतरिक मेमोरी या मुख्य मेमोरी या प्राथमिक मेमोरी (Primary Memory) या रेण्डम एक्सेस मेमोरी (Random Access Memory) भी कहा जाता है। इसका आकार (size) कम्प्यूटर की गति, क्षमता और ताकत को प्रभावित करता है।
कम्प्यूटर में दो तरह की मेमोरी होती है। एक प्राथमिक मेमोरी (Primary Memory) और दूसरी द्वितीयक मेमोरी (Secondery Memory) प्राथमिक मेमोरी temporary संग्रह करती है। जबकि द्वितीयक मेमोरी Permanent संग्रह करती है।
टिप्पणी:
1.ये डाटा और निर्देशों को स्टोर (store) करती है।
2.ये मध्यावर्ती परिणामों को भी संग्रह करती है।
3. ये अंतिम परिणामों को आऊटपुट उपकरण को भेजने से पहले स्टोर करती है।
4. सभी इनपुट और आऊटपुट मुख्य मेमोरी से होकर गुजरती है।
(ख) सॉफ्टवेयर= सॉफ्टवेयर प्रोगामों का एक समूह है जिन्हें परिभाषित कार्यों को करने के लिए डिजाईन किया गया है। सॉफ्टवेयर कम्प्यूटर प्रणाली के हार्डवेयर अंशभूतों को नियन्त्रण, एकीकरण और प्रबंधन और विशेष कार्यों को पूरा करने के लिए उत्तरदायी है। दूसरे शब्दों में सॉफ्टवेयर हार्डवयर को यह बताता है कि क्या करना है और कैसे करना है। उदाहरण:
(i) वेतन नामावती सॉफ्टवेयर (Payroll software) का प्रयोग किसी संगठन में कर्मचारियों के वेतन की गणना करने के लिए किया जाता है।
(ii) कालेज आटोमेशन सॉफ्टवेयर (College automation software) विद्यार्थी के विवरण और फीस की गणना करता है। एक ऐसा प्रोग्राम है, जिसकी सहायता से आप आसानी से साफ तथा सुंदर डॉक्यूमेंट झटपट तैयार कर सकते हैं।
हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर मे सम्बन्ध [Relationship between Hardware and Software]
हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर एक दूसरे पर आश्रित है। दोनों ही कम्प्यूटर से लाभदायक आउटपूट (Output) प्राप्त करने के लिए इकट्ठे काम करते है। कम्प्यूटर पर किसी कार्य विशेष को करने के लिए, हार्डवेयर में सम्बन्धित सॉफ्टवेयर को लोड करना चाहिए। हार्डवेयर एक बार होने वाला व्यय है जबकि सॉफ्टवेयर का विकास बहुत महंगा है।
        यह एक निरन्तर व्यय है। विभिन्न कार्यों को चलाने के लिए हार्डवेयर पर विभिन्न सॉफ्टवेयर लोड किये जा सकते हैं। सॉफ्टवेयर, यूजर (User) और हार्डवेयर के बीच एक माध्यम का कार्य करता है जैसा कि चित्र में दर्शाया गया है।
Fundamentals of computer
इस प्रकार हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर एक विशेष सम्बन्ध को दर्शाता है। यदि हार्डवेयर कम्प्यूटर प्रणाली का • दिल है तो सॉफ्टवेयर इसकी आत्मा है। दोनों एक दूसरे के पूरक है।
टिप्पणी:
1. हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर एक दूसरे पर निर्भर है।
2.कम्प्यूटर पर विशेष कार्य विशेष करने के लिए, वियर में सम्बन्धित सॉफ्टवेयर को लोड करना चाहिए।
3. विभिन्न कार्यों को करने के लिए एक ही हार्डवेयर में विभिन्न सॉफ्टवेयर लोड किये जा सकते हैं।
3.हार्डवेयर सामान्यत एक बार होने वाला व्यय है (उपग्रेडेशन को छोड़कर) जबकि सॉफ्टवेयर एक निरन्तर व्यय है।
सॉफ्टवेयर के प्रकार (Types of Software)
सॉफ्टवेयर दो प्रकार के है।
(क) सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)
(ख) एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)
 सिस्टम सॉफ्टवेयर [System Software]
सिस्टम सॉफ्टवेयर प्रोग्रामों का एक सग्रहण है जिसे स्वयं कम्प्यूटर के संचालन, नियन्त्रण और कम्प्यूटर की कार्य करने की शक्ति को बढ़ाने के लिए डिजाईन किया गया है। सिस्टम सॉफ्टवेयर आमतौर पर कम्प्यूटर निर्माताओं द्वारा तैयार किये जाते है।
सिस्टम सॉफ्टवेयर कम्प्यूटर प्रणाली की इसके उचित कार्य सम्पादन के लिए एक मूल आवश्यकता है। सिस्टम सॉफ्टवेयर हार्डवेयर और यूजर (user) के बीच एक माध्यम है।
सिस्टम सॉफ्टवेयर हार्डवेयर पर केवल नियन्त्रण ही नहीं करते अपितु इसमें दूसरे कार्यक्रमों (प्रोग्राम) को चलाने में एक मंच प्रदान करते है।
Operating System, Compilers, Interpreter, Assemblers, Utility programs इत्यादि सिस्टम सॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण है।
सिस्टम सॉफ्टवेयर की विशेषताएँ:
1. सिस्टम के नजदीक
2.तेज गति
3. सामान्तः मशीनी भाषा में लिखे जाने वाले
4. आकार (size) में छोटे
5. डिजाईन करने में कठिन
6.समझने में कठिन
एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर [Application Software]
Application Software÷एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर वे सॉफ्टवेयर है जिन्हें एक विशेष आवश्यकता की पूर्ति के लिए डिजाइन किया गया है।
        हमारे द्वारा कम्प्यूटर प्रयोगशाला में तैयार किये गये सभी सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के वर्ग में आते हैं। वेतन विद्या सॉफ्टवेयर (Payroll software), विद्यार्थी रिकार्ड सॉफ्टवेयर ए ए (Student record software), इन्वेटरी नियन्त्रण सॉफ्टवेयर (Inventory Control Software), रेलवे आरक्षण सॉफ्टवेयर (Railway reservation software), आयकर सॉफ्टवेयर (Income tax software), वर्ड प्रोसैसर (Word Processor), स्प्रेडशीट (Spreadsheet) इत्यादि सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के उदाहरण है।
Fundamentals of computer
Application Software की विशेषताएं:
1. यह यूजर के समीप है।
2.इसकी गति धीमी है।
3. यह सामान्तया, उच्च स्तर भाषा (High level language) में लिखा होता है।
4. यह समझने में आसान है।
5. इसका प्रबन्ध और उपयोग आसान है।
6.यह आकार में बड़ा होता है। इसके लिए अधिक स्थान की आवश्यकता होती है।
7.इसे डिजाईन करना आसान है।
कम्प्यूटर मेमोरी [Computer Memory]
कम्प्यूटर मेमोरी के कार्य इस प्रकार हैं:
1.ये डाटा और निर्देशों को स्टोर (store) करती है।
2.ये मध्यावर्ती परिणामों को भी संग्रह करती है।
3.ये अंतिम परिणामों को आऊटपुट उपकरण को भेजने से पहले स्टोर करती है।
4.सभी इनपुट और आऊटपुट मुख्य मेमोरी से होकर गुजरती है।
मेमोरी के प्रकार (Types of Memories)
मेमोरी तीन प्रकार की है
1. आन्तरिक प्रोसेसर मेमोरी (Internal Processor Memory)
2. प्राथमिक मेमोरी (Primary Mernory)
3. द्वितीय मेमोरी (Secondary Memory)
(क) आन्तरिक प्रोसेसर मेमोरी: यह मेमोरी CPU में रखी होती है। “Internal Memory में आमतौर पर ‘Cache Memory और विशेष रजिस्टर होते हैं जिनमें प्रोसेसर सीधे पहुँच सकता है।
           इस memory का प्रयोग CPU में किये जा रहे वर्तमान कार्य के डाटा और प्रोग्राम को थोडे समय के लिए स्टोर करने के लिए किया जाता है। Processor Memory’ सभी ‘Mermories’ में से अधिक तीव्र है परन्तु यह अधिक मंहगी है।
(ख) प्राथमिक या प्राइमरी (Primary) मेमोरी: यह मेमोरी अस्थायी (temporary) है। जब डाटा को Process किया जा रहा होता है तो आप Primary Memory में डेटा स्टोर कर सकते है।  यह मेमोरी अस्थाई (volatile) होती है अर्थात जब बिजली बन्द कर दी जाती है तो इस मेमोरी का डाटा खत्म हो जाता है।
Fundamentals of computer
        यह मेमोरी बहुत से छोटे-छोटे भागों में बंटी हुई है। प्रत्येक भाग को शेल (cell) या ‘Memory location’ कहते है। इनमें से प्रत्येक शेल को एक अद्वितीय संख्या (Unique number) दी जाती है जिसे ‘Address’ कहते है।
(ग) द्वितीय (Secondary memory) मेमोरी
इसे ‘Auxiliary memory” या “Backing storage भी कहते हैं। द्वितीय मेमोरी का आकार: प्रथम मेमोरी से बड़ा होता है परन्तु यह प्रथम मेमोरी से धीमी है। यह सामान्यता System Program Instruction और डाटा फाईल को स्टोर करता है।
द्वितीय मेमोरी के लाभ:
1. अपरिवर्तनशील या स्थाई (Non-Volatility) जब बिजली चली जाती है तो इसकी विषय सूची खत्म या नष्ट नहीं होती।
2. क्षमता (Capacity) : इस मेमोरी में बहुत बड़े डाटा को स्टोर कर सकता है। (कागज से भरे हुए कमरे के बराबर)।
3. मूल्य (Cost) : टेप या डिस्क का मूल्य कम है।
4. पुन: उपयोगिता (Reusability): डाटा “Secondary Storage में तब तक रहता है। जब तक इसे यूजर द्वारा इसे खत्म न दिया जाए।
5. पोरटेबिल्टी (Portability): आधुनिक समय की भण्डारण युक्तियां जैसे CD-ROMS इतनी छोटी है कि उन्हें एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजा जा सकता है।
6. विश्वस्नीयता (Reliability) :Secondary storage‘ में डाटा सुरक्षित होता है क्योंकि Secondary Storage भौतिक रूप से विश्वसनीय होते हैं।
7.सुविधाजनक (Convenience) : कम्प्यूटर सहायता से अधिकृत लोग डाटा को ढूंढ सकते है और शीघ्रता से उन तक पहुँच सकते है।
           हार्ड डिस्क, चुम्बकीय टेप, CD-ROM, DVD इत्यादि उपकरण द्वितीय मेमोरी में शामिल है।
प्राथमिक और द्वितीय मेमोरी में अन्तर [Difference between Primary & Secondary Memory]
प्राथमिक मेमोरी
1. यह अस्थायी है।
2. यह परिवर्तनीय (Volatile) है। 3. यह CPU में निर्मित है।
4. यह तीव्र है।
5. इसकी सीमित क्षमता है।
6. इसकी कीमत अधिक है।
7. इसकी पहुंच गति (access speed) उच्च है।
द्वितीय मेमोरी
1. यह स्थायी है।
2. यह अपरिवर्तनीय (Non-Volatile) है। 3. यह एक अलग यूनिट मे होता है।
4. यह धीमा है। 5. इसकी क्षमता अधिक है।
6. इसकी कीमत कम है।
7. “इसकी पहुंच गति (access speed) धीमी है।
संग्रहण इकाई [ Storage Unit]
स्टोरेज लोकेशन की क्षमता को समझने से पहले हम बिद, निवल बाईट और कम्प्यूटर वई को समझते है।
(a) बिट (Binary Digit)
एक 0 या को बिट (BIT) कहते है।
(b) निबल (Nibble)
चार बिट के समूह को निबल कहते है।
(c) बाईट (Byte)
आठ बिट के समूह को बाईट कहते हैं। बाईट वो सबसे छोटी इकाई है जो कि किसी डाटा आईटम या कैरेक्टर को दर्शाती है।

(d) कुछ उच्च संग्रहण इकाईया (Few higher storage units are) :

(i) किलोवाईट (KB) 1KB 1024 बाईट
(ii) मेगाबाईट (MB) 1MB = 1024 किलोवाईट
(iii) गीगाबाईट (GB) 1GB 1024 मेगाबाईट
(iv) टेराबाईट (TB) : 1TB = 1024 गीगाबाईट
(v) पेटाबाईट (PB): 1PB = 1024 टेराबाईट
(e) कम्प्यूटर वर्ड (Computer Word) कम्प्यूटर वर्ड बाईट की तरह, निश्चित संख्या की बिट का समूह है जिसे एक इकाई के रूप में प्रोसेस किया जाता है कम्प्यूटर वर्ड के साईज को वर्ड साईज या वर्ड को लेंथ कहा जाता है। ये कम से कम 8 बिट का और ज्यादा से ज्यादा 96 बिट का होता है।
श्रेणी: Computer

0 टिप्पणियाँ

प्रातिक्रिया दे

Avatar placeholder

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.